वास्तु में ईशान दिशा की शुभता का वैज्ञानिक आधार

ईशान कोण दिशा के स्वामी भगवान् शंकर हैं। (शंकर इत्यमर) इस दिशा के अधिष्ठाता देवगुरु बृहस्पति हैं। शिव और बृहस्पति दोनों ही पूज्य और कल्याणकारी हैं। इसलिए ईशान कोण को धार्मिक दृष्टि से पवित्र और शुभ माना गया हैं। धार्मिक पूजा-अनुष्ठान में कलश रखने स्थापना के लिए ईशान आरक्षित हैं

वास्तु